Ramdhari Singh Dinkar – व्योम-कुंजों की परी अयि कल्पने (Vyom kunjo ki pari)

व्योम–कुंजों की परी अयि कल्पने व्योम-कुंजों की परी अयि कल्पने ! भूमि को निज स्वर्ग पर ललचा नहीं, उड़ न सकते हम धुमैले स्वप्न तक, शक्ति हो तो आ, बसा...
vyom kunjo ki pari ayi kalpane

व्योमकुंजों की परी अयि कल्पने

व्योम-कुंजों की परी अयि कल्पने !
भूमि को निज स्वर्ग पर ललचा नहीं,
उड़ न सकते हम धुमैले स्वप्न तक,
शक्ति हो तो आ, बसा अलका यहीं।

फूल से सज्जित तुम्हारे अंग हैं
और हीरक-ओस का श्रृंगार है,
धूल में तरुणी-तरुण हम रो रहे,
वेदना का शीश पर गुरु भार है।

अरुण की आभा तुम्हारे देश में,
है सुना, उसकी अमिट मुसकान है;
टकटकी मेरी क्षितिज पर है लगी,
निशि गई, हँसता न स्वर्ण-विहान है।

व्योम-कुंजों की सखी, अयि कल्पने !
आज तो हँस लो जरा वनफूल में
रेणुके ! हँसने लगे जुगनू, चलो,
आज कूकें खँडहरों की धूल में।

Vyom kunjo ki pari ayi kalpane

vyom kunjo ki pari ayi kalpanenbsp;!
bhoomi ko nij svarg par lalachaa nahiin,
uD n sakate ham dhumaile svapn tak,
shakti ho to aa, basaa alakaa yahiin.

fool se sajjit tumhaare ang hain
aur hiirak-os kaa shrRingaar hai,
dhool men taruNii-taruN ham ro rahe,
vedanaa kaa shiish par guru bhaar hai.

aruN kii aabhaa tumhaare desh men,
hai sunaa, usakii amiT musakaan hai;
TakaTakii merii kSitij par hai lagii,
nishi gaii, hansataa n svarN-vihaan hai.

vyom kunjo ki sakhi, ayi kalpanen!
aaj to hans lo jaraa vanafool men
reNuken! hansane lage juganoo, chalo,
aaj kooken khanDaharon kii dhool men.

Facebook Comments
Categories
Arts and EntertainmentPoetrySociety
Jumping posts

RELATED BY